आम आदमी पार्टी और कांग्रेस का नहीं होगा गठबंधन, “आप” गठबंधन क्यों नहीं करना चाहती?

Image Source: Hindustan Times

राजधानी दिल्ली सेआये दिन यह खबर आ रही थी की आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बिच गठबंधन होगा, लेकिन अब गठबंधन की सारी संभावनाएं खत्म होती नज़र आ रही है। ऐसा हम इस लिए बोल रह है क्योकि पहले बार कांग्रेस पार्टी के इंचार्ज पीसी चाको सामने आकर कहा है की आम आदमी पार्टी और कांग्रेस का नहीं होगा किसी प्रकार का कोई गठबंधन नहीं होगा। इंचार्ज पीसी चाको ने मीडिया को बताया की आम आदमी पार्टी ने आज सुबह कांग्रेस पार्टी से गठबंधन करने से साफ इंकार कर दिया है। आम आदमी पार्टी की एक मीटिंग हुई थी, जिसके बाद इंकार कर दिया गया। इसी के चलते कांग्रेस पार्टी आज तय करेंगी की दिल्ली की 7 सीट पर अपने किन उम्मीदवारो को उतारे। कल सभी उम्मीदवारों के नामो को पुख्ता (फाइनल) कर देंगे। इंचार्ज पीसी चाको ने आज सुबहे कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी यह जानकरी दी, और राहुल गांधी ने पीसी चाको को चुनाव में अकेले उतरने को कहा है।

मीडिया से बात करते हुए पीसी चाको ने बताया की कांग्रेस पार्टी दिल्ली से 7 सीट पर लड़ने के लिए पूरी तरह से त्यार है। कांग्रेस पार्टी को एकेले चुनाव लड़ने में कोई आपत्ति नहीं है। जानकारी मुताबिक “आप” पार्टी कल गठबंधन के लिए तैयार थी, मगर आज आम आदमी पार्टी पीछे हट गई। चाको ने दावा करते हुए कहा की जब कांग्रेस पार्टी अपने उम्मीदवारों के नाम ऐलान करेगी , तब हमारी पार्टी पूर्ण रूप से चुनाव में होगी, क्योंकि हमारे ब्लॉक तैयार हैं, जिला और विधानसभा तैयार हैं। पीसी चाको ने बताया की कांग्रेस पार्टी शुरू से आप पार्टी से गठबंधन के लिए त्यार थी, बस हम आम आदमी पार्टी के जवाब का इंतजार कर रहे थे।

Image Source: Zee News – India.com

आम आदमी पार्टी क्यों गठबंधन क्यों नहीं करना चाहती ?

कांग्रेस पार्टी के इंचार्ज पीसी चाको आम आदमी पार्टी से सवाल करते हुए पूछा की क्यों पार्टी कांग्रेस के साथ गठ्बंदन नहीं करना चाहती ? जबकिआम आदमी पार्टी का कहना है की मोदी और अमित शाह को चुनावी मैदान में हराने के लिए आप पार्टी गंभीर है। फिर भी पार्टी ने कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं किय चाको ने कहा की अब कांग्रेस पार्टी पुरे जोश के साथ दिल्ली में चुनाव लड़ेगी और जीत अपने नाम करेंगी। राहुल गांधी ने खुद ट्विटर पर आप पार्टी के सामने प्रस्ताव रखा था और पार्टी को चार सीटें ऑफर दिया था। लेकिन मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक दोनों पार्टी के बिच हरियाणा को लेकर बात नहीं बन सकी थी। राजनीति और चुनाव से जुडी ताज़ा खबरों के लिए न्यूज़ रिकॉर्डर के साथ बने रह।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here