दुनिया भर में ले रहा है यह फंगस लोगों की जाने, 3 महीने में लेता है जान यह फंगस

Image Source: Chemistry World

भारत समेत दुनिया भर में एक रहस्यमयी फंगस लोगों की जाने ले रहा है। यह फंगस लोगों के लिए जान लेवा साबित हो रहा है। चिंता का विषय इस लिए भी है, क्योकि इस फंगस का अभी तक  कोई इलाज डुंडा नहीं गया है। इस फंगस की सबसे अजीब बात  यह है की मनुष्य की जान लेने के बाद भी इस फंगस की मृत्यु नहीं होती, और एक मनुष्ये से दूसरे मनुष्य के  शरीर में फैलता रहता है। इस फंगस का नाम ‘कैंडिडा ऑरिस’ है। न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई की इस फंगस ने अभी कई लोगो की जान ले ली है, सिलसला अभी रुकने का नाम नहीं ले रहा। अभी भी इसके बहुत मामले सामने आ रह है। आपको बता दे की यह फंगस  लोगो को चपेट में ले रहा है, जिसकी प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune system) कमजोर है।

Image Source: The National

न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले साल मई महीने में कैंडिडा ऑरिस पहला मामला ब्रुकलिन में सामने आया था। यह एक बूढ़ा आदमी था जो माउंट सिनाई हॉस्पिटल फॉर ऐब्डॉमिनल सर्जरी में भर्ती हुआ था। इसके बाद उस बुजुर्ग आदमी के कई टेस्ट किये गए जिसमे पाया गया की यह बुजुर्ग एक रहस्यमयी फंगस से ग्रस्त है। इलाज के बावजूद उस बुजुर्ग व्यक्ति की मृत्यु हो गई। अस्तपाल के प्रबंधक डॉ स्कॉट लॉरिन के अनुसार, बुर्जुग की मौत के बाद यह फंगस दीवारें, बिस्तर, दरवाजे, पर्दे, फोन, सिंक, वाइटबोर्ड, चादर, बेड रेल में कैंडिडा ऑरिस मिला था। बाद में पाया गया की इस फंगस से और भी अन्य लोग ग्रस्त है। वेनेजुएला और स्पेन में इन पांच सालो के भीतर कई मामले सामने आये जिसमे इस फंगस से लोग ग्रस्त थे।

फंगस का फैलना

Image Source: Eesti Toitumisnõustajate Ühendus

यह फंगस यूएस और यूरोप के बाद अब एशियाई देशों में भी इसके कुछ मामले सामने आचुके है, इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है, की इस फंगस की बढ़ने की गति कितनी तेज है। भारत, पाकिस्तान और दक्षिण अफ्रिका में इस फंगस से प्रभावित लोग देखे जा रह है। यह फंगस इतना खतरनाक है की इस फंगस पर किसी प्रकार के  ऐंटीफंगल मेडिकेशन का भी कोई प्रभाव नहीं पड़ता। फंगस मनुष्ये की जान तीन महीने के भीतर ले लेता है। आपको बता दे की इस फंगस का तोड़ ढूंढने के लिए रिसर्च की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here