केरला वन विभाग ने जारी की मादा हाथी की जान लेने वालों की खोज

भारतवासियों में बढ़ता गुस्सा इस बात का प्रतीक है कि जानवरों के खिलाफ होने वाले हर गलत कार्य की समझ निंदा करता है. हाल ही में हुआ केरला का एक हादसा जिसमे कुछ गावों वालों ने एक मादा हाथी को पटाखों से भरा अनानास खिलाकर मार दिया

यह खबर न सिर्फ केरला के लोगों को दुःख देने वाली थी बल्कि पुरे भारत वर्ष में इसकी कड़ी निंदा की गयी. बात मई २७ की है जब एक गर्भवती हाथी खाने की तलाश में जंगल से निकल कर केरला के एक गांव पलक्कड़ में आ गयी. वहां लोगों से उसे खाने को अनानास दिया जिसमे पटाखे भरे हुए थे. पटाखों से भरा वो अनानास खाकर मादा हाथी ने वहीँ नदी में खड़े खड़े अपने प्राण त्याग दिए| 

सुनने में ये जितना दुखदायी लगता है असल में उससे कही ज़्यादा दर्दनाक है. वह मादा जो खाने की तलाश में गांव में आयी उसे नहीं  मनुष्य के भेस में जानवर उसे खाना दे रहे हैं| गर्वभ में मौजूद बच्चे की भूख को शांत करने के लिए मादा जंगल से निकल कर गांव में आयी और जब वन वभाग को इस घटना की सोचना मिली तब तक वह दम तोड़ चुकी थी. 

केरला के मुख्या मंत्री श्री पिनरई विजयन ने बुधवार को इस घटना पर कहा की जांच जारी हो चुकी है और बोहोत जल्द गुन्हेगार पुलिस की गिरफ्त में होंगे. केरला में मौजूद दो संस्थाओं ने नकद इनाम देने की घोषणा की है, जो भी व्यक्ति इस घटना से जुड़े आरोपियों की जानकारी देगा उसे नकद इनाम मिलेगा. 

मन्नारक्कड डिविशनल अफसर सुनील कुमार का कहना है की मादा हाथी स्लीएंट वैली नेशनल पार्क से आयी थी और थिरुविजहंकुन्नू से लगभग ३०० मीटर दूर उसने अपने प्राण त्याग दिए जब पटाखों से भरा अनानास खाने से उसकी जीभ और मुँह में गहरे जख्म हो गए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here