Rail Roko Andolan Live | 18 फ़रवरी को पुरे देश में रेल रोको आन्दोलन | राकेश टिकेत

Rail Roko Andolan Live: Rail Roko Andolan Live Updates

Rail Roko Andolan Live
DNA India

Rail Roko Andolan Live – भारतीय किसान यूनियन के रास्टीय पर्वक्ता राकेश टिकेत ने बताया के नए क्रषि कानूनों के खिलाफ गुरुवार को रेल रोको आन्दोलन होगा. उन्होंने कहा दोपहर 12 बजे से शाम 4 बजे तक देश भर में रेल रोको आन्दोलन होगा. किसान यूनियन चाहती है के केंद्र सरकार तीनो क्रषि कानूनों को वापस ले ले . रेल रोको आन्दोला के चलते आज देश भर में सुरक्षा बढ़ा दी गयी है. रेलवे सुरक्षाबलों की 20 अतिरिक्त कंपनियां तैनात की है. एक अधिकारी ने बताया है के रेल रोको अभियान के मध्यनजर रेलगाड़ियो की आवाजाही पर अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है.

हमारे पास लगभग 80 रेल गाड़ी है, जो संभावित छेत्रो से गुजरती है. वही भारतीय किसान यूनियन के नेता गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा था के किसान यूनियन चुनाव को लेकर पश्चिमी बंगाल में अपना मुद्दा उठाएगी. कि लोग उन्हें वोट न दें जो उनकी आजीविका छीन रहे हैं. टिकेत ने कहा रेल रोको आन्दोलन शांति के साथ किया जायेगा. जो लोग फसे हुए होंगे हम उन लोगो को दूध, पानी, लस्सी और फल देंगे. हम उन्हें अपने मुद्दे बताएँगे. खास बात यह है कि पिछली बार हुए देशव्यापी ‘चक्का जाम’ से जिस तरह दिल्ली, यूपी और उत्तराखंड को बाहर रखा गया था, इस बार ‘रेल रोको’ में किसी राज्य को छूट नहीं दी जाएगी.

Rail Roko Andolan Live
Times of India

किसान संगठनो का कहना हा के उन्हें रेल रोको आन्दोलन के लिए मजबूर होना पड़ा है. जिसका मकसद सरकार पर क्रषि कानूनों को वापस लेने का दबाव बनाना है. किसानो का कहना है की हमे आन्दोलन करते हुए काफी समय हो गया है. लेकिन सरकार सुनने के लिए तेयार नहीं है. रेल रोको आन्दोलन के जरिये हम अपना विरोध जता रहे है. इस आन्दोलन में आने वाले कई किसान अब हमारे बिच नहीं रहे. लेकिन सरकार को कोई फरक नहीं पढ़ रहा है. अब हमारा आन्दोलन भी अलग-अलग रूप से तेज होगा.

हमने इसकी घोषणा 15 दिन पहले ही कर दी थी. ताकि लोगो को परेशानी न हो. यह आन्दोलन शांति पूर्ण होगा. किसान नेता सभी किसानो से अपील कर रहे है के इस दोरान किसी तरह की अफवाहों पर ध्यान न दे. रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स के डायरेक्टर जनरल अरुण कुमार ने पीटीआई से बातचीत में कहा, ‘हम चाहते हैं कि किसान यात्रियों के लिए असुविधा पैदा न करें। हम चाहते हैं कि वे 4 घंटे शांति से बीत जाएं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here