जम्मू कश्मीर में फिर हुआ आतंकी हमला ,इसमें एक मेजर रैंक के सेना के अधिकारी हुए शहीद।

ANI की ओर से यह खबर आरही है, की जम्मू कश्मीर में  फिर हुआ IED आतंकी हमला, जिसमे मेजर रैंक का  एक अधिकारी  शहीद हुआ है , और दो अन्य भी घायल हुए , पूरा भारत अभी इस सदमे से उभरा भी नहीं था और यह दूसरा आतंकी हमला होगया। यह आतंकी  हमला LOC लाइन ऑफ़ कण्ट्रोल के  राजोरी में हुआ है। जिसमे भारतीय सेना का एक अदिकारी शहीद हो गया है। यह हमला प्लानिंग करके किया गया है , यह खबर आरही है। यह हमला पेट्रोलिंग टीम को निशाना बनाकर किया गया है। परंतु इस आतंकी हमले की जिम्मेदारी किसी भी संघटन  नहीं ली है।
यह आतंकी हमला राजोरी के नौसेरा के एक इलाके में हुआ है। इस आत्मघाती हमले में इंजीनियरिंग यूनिट एक मेजर गंभीर रूप से घायल  बताया जा रहा था। परन्तु अभी ये भी खभर आ रही है की उन्होंने अपने प्राणो की आहुति देदी है , अभी तक कुछ स्पष्टीकरण   नहीं हो पाया  है , न ही अभी शहीद हुए अधिकारियो की शिनाख्त हो पाई है। 14 फरवरी के आतंकी  हमले के बाद पाकिस्तान ने सीजफायर किया जिसके जवाब में  भारतीय सेना ने मूतोड़ जवाब दिया है , भारतीय सेना ने स्पष्ट कर दिया है की  अब बक्शा नहीं जायेगा। भारत सरकार की छूट के बाद भारतीय सेना का मनोबल भड़ा है।
jammu kashmir
जम्मू कश्मीर के हलातो को ध्यान में रखते हुए कश्मीर घाटी की इंटरनेट सेवा को रद्द कर दिया गया।जम्मू कश्मीर के  पुलवामा 14  फरवरी को हुआ था ,एक आतंकी हमला जिसमे CRPF के 40 जवान सहीद हो गए थे , और बहुत से सैनिक घायल हुए। इस आतंकी हमले में जान माल का बहुत नुकसान हुआ है , यह आत्मघाती हमला CRPF की गाड़ियों पर किया जो जम्मू के हाइवे पर हुआ। कश्मीर में सुरक्षा भड़ा दी गई है। और भारतीय सीमाओं पर चौकसी भड़ा दी गई है ,
 IEDक्या होता है ? जानिए !
IED इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस है। यह एक प्रकार के जानलेवा बम हैं। जिन्हें सैन्य बमों से बिलकुल अलग तरीके से बनाया जाता है। इस बम का प्रयोग जंगलो और रोड के निचे छुपा कर इस्तमाल किया जाता है। जिससे यह आसानी से दिखाई नहीं  देते।  ये बम बहुत ही लापरवाही से बनाए गए हैं। इसीलिए उनमें घातक, विषैले, बारूद  और अग्नि आधारित रसायन शामिल हैं। जो बहुत घातक साबित होते है। इन बमो को इसतरह बनाया जाता है। और लगाया जाता है  कि वह उस पर गिरने या कार के पहिए के नीचे आने के बाद  उसमे विस्फोट होजाये । सेना में इसका प्रयोग विरोधियो को रोकने के लिए होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here