Super Earth GJ 357D: नासा ‘NASA’ के वैज्ञानिको ने पृथ्वी जैसा ग्रह ढूंढा, क्या पानी और जीवन होगा ?

Super-Earth GJ 357D: The scientists of NASA find Earth-like planet, will there be water and life? NASA discovers, expecting life apart from a solar system, नासा की खोज़
Image Source : Daily Express

NASA: नासा के वैज्ञानिको ने ऐसे खासियत वाले पहले ग्रह ‘सुपर-अर्थ’ (Super Earth) की खोज़ की है। जहा जीवन होने की समभावना हो सकती है। नासा ने यह उम्मीद जताई है। आपकी जनकारी के लिए बता दे की यह ग्रह सौर मंडल के बाहर मिला है, जिसकी धरती से दुरी तकरीबन 31 प्रकाश वर्ष दूर है। NASA नासा ने ‘सुपर-अर्थ’ (Super Earth) इस ग्रह को जिजे 357-डी (GJ 357D) नाम दिया है। इस खोज को नासा और पुरे विश्व के लिए बहुत खास खोज माना जा रहा है। ‘सुपर-अर्थ’ (Super Earth) ग्रह की खोज नासा (NASA) के सेटेलाइट से की गई है। जिस सेटेलाइट का नाम है, नासा (NASA) ट्रांज़िटिंग एक्सोप्लेनेट सर्वे सेटेलाइट (Transit Exoplanet Survey Satellite), इसी सेटेलाइट की मद्त से जिजे 357-डी (GJ 357D) ग्रह की खोज़ की है।

नासा (NASA) की और से शुरुआती जानकारी के मताबिक यह सामने आया है की इस ग्रह का आकार हमारी धतरी से भी बड़ा है। अमेरिका की कॉर्नेल यूनिवर्सिटी की असिस्टेंट प्रोफेसर और टीईएसएस विज्ञान टीम की सदस्य लिजा कलटेनेगर ने बताया की, ‘यह उत्साहजनक है कि समीप में पहला ‘सुपर-अर्थ’ (Super Earth) मिला है। जिस पर जीवन होने की पूरी संभावना हो सकती है। ऐसा इस लिए भी कहा जा रहा है की यह हमारी पृथ्वी से कई गुना बड़ा है, जिसके चलते जीवन होने की सम्भावना बड़ सकती है।

नासा (NASA) ने बताया की इस 357-डी (GJ 357D) ग्रह पर घना वातावरण देखने को मिला है। अगर नासा को इस ग्रह पर जीवन के कुछ आसार भी दिखे तो यह स्पष्ट है की इस ग्रह पर हर किसी की आने की चाहत होगी। आपको बता दे की पिछली फरवरी में ही टीईएस सैटेलाइट (TES Satellite) ने इस ग्रह का पता लगाया था, लेकिन आधिकारिक तोर पर इसकी घोषणा अभी की गई है और बता दे की जिजे 357-डी (GJ 357D) हर 3.9 दिनों में थोड़ा मंद हो रहा था। नासा के वैज्ञानिकों यह मन्ना है की इस प्रक्रिया से यह स्पष्ट होता है की इस ‘सुपर-अर्थ’ (Super Earth) ग्रह के आस-पास और कोई ग्रह है जो परिकर्मा कर रहा है। नासा (NASA) गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर (Goddard Space Flight Center) के अनुसार, यह ग्रह जीजे 357 बी था, जो पृथ्वी से लगभग 22% प्रतिशत बड़ा है।

Super-Earth GJ 357D: The scientists of NASA find Earth-like planet, will there be water and life? NASA discovers, expecting life apart from a solar system, नासा की खोज़
Image Source : tocuz

Super Earth: नए ग्रह की खोज से संबंधित यह अध्‍ययन एस्ट्रोफिजिकल जर्नल लेटर्स (Astrophysical Journal Letters) में प्रकाशित हुआ है। वैज्ञानिक लिजा कलटेनेगर मिडिया को बताया की 357-डी (GJ 357D) ग्रह की ज़मीन (सतह) पर हमारी धरती की तरह पानी तरल रूप में होने की संभावना हो सकती है। टेलीस्कोप की साहयता से ग्रह पर जीवन होने की खोज की जा सकती है। इस खोज से जुड़ी सभी प्रमुख खबर ऑनलाइन साझा की जाएंगी।

ट्रांजिटिंग एक्सोप्लेनेट सर्वे सैटेलाइट (टीईएसएस) एक अंतरिक्ष टेलीस्कोप है। जिसे नासा ने नए और अनोखे ग्रहों की खोज के लिए 18 अप्रैल, 2018 अंतरिक्ष में लॉन्च किया था। आपकी जानकारी के लिए बता दे की यह सैटेलाइट अंतरिक्ष में लगभग दो साल तक खोज़ करता रहेंगे। अंतरिक्ष से जुड़ी ताज़ा खबरों के लिए हमारे साथ बने रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here