किसान और देश की अर्थव्यवस्था के लिए अच्छी खबर, इस मानसून में होगी अच्छी बारिश

Image Source; Latestly

भारत में इस वर्ष मॉनसून में समान्य वर्षा हो सकती है। भारत के मौसम विभाग ‘IMD’ ने जानकारी लोगो से साझा की। सामन्य वर्षा से भारत में कृषि पैदावार अच्छी होगी, जिसके चलते देश की अर्थव्यवस्था और मजबूत होगी साथ ही अर्तव्यवस्था की गति में भी तेजी आएगी। भारत की कृषि के लिए मॉनसून की वर्षा इस लिए महत्वपूर्ण है, क्योकि देश की करीब आधी खेती की जमीन सिंचाई के लिए मॉनसूनी बारिश पर ही निर्भर रहती है। पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के सचिव एम. राजीवन ने बताया की मॉनसून में इस वर्ष वर्षा औसत 96 फीसदी रहने की उम्मीद है। आपको बता दे की मौसम विभाग 96 फीसदी से 104 फीसदी के बीच हुई बारिश को  सामान्य मानसून के रूप में देखता है। पिछले साल भारत में काम वर्षा हुई थी, जिसके आकड़े कुछ इस प्रकार है, 2017 और 2018 में, क्रमशः 95 फीसदी और 91 फीसदी वर्षा हुई थी।

IMD  अनुमान लगाते हुए कहा की भारत में इस साल मॉनसून की वर्षा का वितरण काफी बहतरीन रहेगा, इसका मुख्ये फायदा किसानो को होगा, जिससे देश की अर्थव्यवस्था भी मजबूत होगी। आपको जान कर हैरानी होगी की मॉनसून की बारिश भारत की कृषि आधारित 2.6 लाख करोड़ रुपये की अर्थव्यवस्था के लिए जीवनरेखा है। भारत में सबसे पहले मॉनसून 1 जून को केरल में दस्तक देता है। इसके बाद यह मॉनसून राजस्थान होते हुए वापस लोट जाता है।

Image Source; Outlook Hindi

मॉनसून की अच्छी वर्षा सेपैदावार अच्छी होगी जिसके कारण किसानो की आय में वृद्धि होगी और उपभोक्ता वस्तुओं पर खर्च बढ़ेगा। शहर के लोगो को भी इसका फायदा पहुंचेगा ऐसा इसलिए पैदावार अच्छी होने से महंगाई नियंत्रण रहगा। जिससे लोगो की जेब पर कम दबाव बनेगा। लेकिन इसका थोड़ा बहुत नुकसान किसानो को भी होता है, ऐसा इसलिए पैदावार अधिक होने से कीमतें बहुत कम हो जाती है, जिससे किसानो को दिक्क्तों का सामना करना पड़ता है। मॉनसून में अच्छी वर्षा से सबसे अधिक फायदा कोनसी फसल को होगा  चावल, मक्का, गन्ना, कपास और सोयाबीन जैसी फसले।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here