बजट 2021: Economic Survey 2021 LIVE Updates

बजट 2021- क्या देश को मुश्किलों से बाहर निकाल पाएगी सरकार?

Budget 2021
Wecdunia

बजट 2021- संसद में आज राष्टपति रामनाथ कोविंद के अभिभासन के साथ बजट सत्र की सुरुवात हो गयी है. इसके साथ ही वित् मंत्री निर्मला सीतारमण आज आर्थिक सर्वेक्षण पेश करेंगी. नरेंद्र मोदी सरकार का संसद में बजट पेश होने से पहले ही मीडिया चर्चा में आ गया था. इसकी वजह इसका बदला हुआ रंग रूप भी रहा. वित् मंत्री निर्मला सीतारमण बजट के दस्तावेज परम्परागत तोर पर इस्तेमाल किये जाने वाले ब्रिफ्केश की बजाय पूरी पटकथा को मखमली लाल कपडे से कवर कर के ले गयी थी. कहा जा रहा था के इस साल भी बजट लाल कपड़े में लाया जायेगा.

बजट सत्र से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा के इस बार का बजट देश के भविष्य के लिए बहोत महत्वपूर्ण है. उन्होंने कहा के यह इस दसक का पहला बजट है. मुझे आशा है की जिस विश्वास और अपेक्षा के साथ जनता ने हमे सन्देश भेजा है, हम उन अकंसाओ को देखते हुए, इस स्तर को सफल बनायेंगे. बजट की तेयारिया जरी है, नए आइडिया पर बात हो रही है. सरकारी सूत्रों ने पुष्टि की है के कोरोना कर पर गंभीरता से विचार हो रहा है. और यह अधिकतम तीन साल के लिए लगाया जा सकता है.

 बजट 2021
Navodaya Times

इस नयी परम्परा के साथ कहा गया है के मोदी सरकार ने बजट से जुडी अंग्रेजो की परम्परा को भी ख़तम क्र दिया है. बता दे की बेग में बजट की परम्परा 1733 में जब सूरी हुई थी जब ब्रिटिश सरकार के प्रधानमंत्री और वित् मंत्री रोबट वाल्पोल बजट पेश करने आये थे. और उनके हाथ में चमड़े का एक थेला था. इस थेले में ही बजट से जुड़े हुए दस्तावेज थे. चमड़े के इस थेले को फ्रेंच भासा में बुजेट कहा जाता था. उसी के आधार पर बाद में इस प्रक्रिया को बजट कहा जाने लगा. फिर लाल सूटकेस का इस्तेमाल पहली बार 1860 में पहली बार ब्रिटिश बजट चीफ विलिमय ग्लेडस्टोन ने किया था. लम्बे समय के बाद जब बेग की सिथति ख़राब होने के कारण 2010 में इसे आधिकारिक तोर पर रिटायर किया गया. ताजा बजट कोरोना महामारी के कारण पैदा हुई परिस्थिति के बिच तेयार किया जा रहा है.

निर्मला सीतारमण ने वादा किया है की इस बात का बजट सबसे अलग होगा. इस सदी का सबसे बेहतर बजट होगा. लेकिन यह तो एक फ़रवरी को समज में आएगा की उनके दावो और वादों में किता दम है. प्रिया रंजन दास को इस बार के बजट से ज्यादा उम्मीद नहीं है क्युकी उनका मानना है के बजट के बारे में उम्मीद अधिक की जा रही है. राष्ट्रपति कोविंद ने कहा हमारे लिए गर्व की बात है के आज भारत दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान चला रहा है. इस प्रोग्राम की दोनों वेक्सिन भारत में ही निर्मित है. सकंट के इस समय में भारत ने मानवता के प्रति अपने दायित्व का निर्वहन करते हुए अनेक देशो को कोरोना वेक्सिन की लखी खुराक उपलब्ध करायी है. मेरी सरकार द्वारा स्वस्थ्य के छेत्र में पिछले 6 वर्षो में जो काम किये गये है, उनका बहोत बड़ा लाभ हमने इस कोरोना महामारी के दोरान देखा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here