Farmers Protest: Kisan Andolan: गाजीपुर बॉर्डर बंद

Farmers Protest: गाजीपुर बॉर्डर पर कड़े सुरक्षा इंतजाम, दिल्‍ली पुलिस ने सड़क पर लगाई कीलें

Chakka Jam News
The Economic Times

Farmers Protest– नए क्रषि कानूनों को लेकर एक बार फिर किसानो के आन्दोलन की आग तेज हो सकती है. कुछ देर पहले किसान नेताओ ने ऐलान किया की वो 6 फ़रवरी को पुरे देश में आन्दोलन करेंगे. और इसके अलावा किसानो ने रोड जैम करने की बात भी कही है. गाजीपुर बॉर्डर पर फिर से हजारो किसान नए क्रषि कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन क्र रहे है. पुलिस ने प्रदर्सन स्थल पर कई जगह बेरीकेट लगाये है. और सुरक्षा बलों की भरी तेनाती की गयी है. नए किसान कानूनों के खिलाफ अब किसान पुरे देश में आन्दोलन करेंगे.

 Farmers Protest
Al Jazeera

उन्होंने कहा के 6 फ़रवरी की दोपहर 12 बजे से 3 बजे तक चक्का जाम किया जायेगा. टिकरी बॉर्डर और सिंघु बोर्डर पर प्रदर्सन कर रहे किसानो ने कहा के उन्हें केवल केंद्र के नए क्रषि कानूनों वापस लिए जाने की चिंता है. और केंद्रीय बजट में क्रषि छेत्र को क्या दिया गया है, इससे उन्हें कोई फर्क नहीं पढता. किसानो का कहना है के हमे सिर्फ नए तीन क्रषि कानूनों से मतलब है, और हम यह कानून वापस करा के ही अपने घर जायेंगे. बॉर्डर पर सुरक्षा बलों की 15 कम्पनिया पहले से ही तेनात है. सिथति पर नजर रखने के लिए ड्रोन से नजर राखी जा रही है.

सोमवार को सिंघु बॉर्डर पर सुरक्षा बढ़ा दी गयी है. पुलिस ने टिकरी बॉर्डर पर सीमेंट से किलो को गाड दिया है. किल के अलावा पुलिस ने मोटे सरिये को नुकीला बनाकर इस तरह लगाया है के बॉर्डर पार करके कोई गाडी जबरन दिल्ली में घुसने की कोशिस करेगी तो गाडी का टायर वही पर फट जाये. दिल्ली पुलिस ने यह इंतजाम रविवार की रात को किये है. सीमओं के बंद होने के बाद बहादुरगड से दिल्ली की और जाने वाले वाहन चालको को काफी परेसनियो को सामना करना पड़ रहा है. वही बात करे तो सिंघु बॉर्डर पर भी सुरक्षा काफी बड़ा दी गयी है.

 Farmers Protest
The Hindu

वही गाजीपुर बॉर्डर किसानो के आन्दोलन का मुख्या केंद्र बन गया है. दिल्ली के बॉर्डर पर आम लोगो की आवाजाही पूरी तरह से रोक दी गयी है मतलब के दिल्ली की और से 1.5 किलोमीटर तक आम लोगो की आवाजाही पर पूरी तरह रोक लगा दी गयी है. बॉर्डर पूरी तरह से सील होने की वजह से आस-पास के लोगो को काफी प्रेसनिया का सामना करना पड़ रहा है. आम लोगो को इमरजेंसी में यहाँ से अस्पताल पहुचना बहुत मुस्किल है, बॉर्डर से अस्थ्हाई दुकाने भी हटा दी गयी है. दुकाने हटाने के बाद से किसान अपनी जरुरत का सामान भी नहीं खरीद प् रहे है. किसानो का कहना है की सरकार हमे एक जगह घेराबंदी करके एक जगह केद करना चाहती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here