अरुणाचल प्रदेश आग से सुलग उठा , उप-मुख्यमंत्री के आवास में लगाई आग।

image source by; Hindustan
अरुणाचल प्रदेश कुछ समय से जमकर तोड़ फोड़ की जा रही है। पेमा खांडु सरकार के खिलाफ पर्दशन किये जा रह है। 22 फ़रवरी के बाद से घर ,मकान,गाड़िया  अदि जलाने की खबरे सामने आरही है। और यह आग उनके घर तक पहुंच गई है , भड़की हुई भीड़ ने उप-मुख्यमंत्री के आवास को आग के हवाले करदिया। सड़को पर उत्पात मचाने के बाद। सरकार के फैसले पर नराज भीड़ ,सीधा उनके बंगले पर पहुंची और वह की वस्तु को आग लगा दी। और नारे बाजी करना शुरू करदिया। अब मुख्यमंत्री को सुरक्षित जगह पहुंचा दिया गया है।
अरुणाचल प्रदेश की राजधानी ईटानगर में पर्दशन करियो ने डेरा जमा रखा है। वह सभी आग लगा रह है ,चक्का जाम कर रह है , सरकारी व्हानो को आग लगा रह है। और प्रशासन को चुनौती दे रह है। इन पर्दशनकारियो ने बहुत से नेताओ के घरो को आग के हवाले करदिया है। अब तक तकरीबन 50 से ज्यादा गाड़ियों को आग लगा दी गई है। और 100 से अधिक अनेक प्रकार के व्हानो को जला दिया गया है। शहर में 22 फ़रवरी से ईटानगर में हो रहइंटरनेशनल फेस्टिवल के सेट को भी जला दिया गया। फेस्टिवेल से लोट रह एक बैंड की गाड़ी को रुकवा कर उनकी गाड़ी और बैंड को जला दिया गया। इसके अलावा पांच थेटरों को भी जला दिया गया। हलातो पर नियरत्न पाने के लिए ,ITVP की 6 टुकड़िया अरुणाचल प्रदेश तैनात की गई है। इसके साथ आर्मी भी फ्लैग मार्च कर चुकी है।
जानते है की यह सब क्यों हो रहा है।
इस पर्दशन की जड़े दो राज्ये है , नामसाई और चांगलांग  के दो जिले है ,इन जिलों में कुछ समुदाय रहते है ,जिन्हे अरुणाचल प्रदेश  स्थाई निवसी नहीं माना गया । और इसमें गैर अरुणाचल निवासी भी है। सरकार 6 आदिवासियों समुदायों को वह का स्थाई निवासी बनाना चाहती है।देओरी, सोनोवाल, कचारी, मोरान, आदिवासी और मिशिंग शामिल है। सरकार इन्हें परमानेंट रेजिडेंट सर्टिफिकेट यानी पीआरसी देना चाहती है। इस बात की सरकार की बनाई हुई एक कमेटी ने शिफारिश भी की है। अरुणाचल प्रदेश के  स्थानीय लोगों और छात्र संगठनों का यह मानना है ,की अगर ऐसा होता है तो ,तो उनके हितो की अनदेखी हो सकती है।
लोग चाहते है की इसमें बदलाव किये जाये। शुरवाती चरण में इन संघटनो ने संतीपूर्वक प्रोटेस्ट किये थे। जब उन्हें लगा की वह सफल नहीं हो रह तो पर्दशन करियो के दंगे करने शुरू करदिए। नामसाई और चांगलांग ज़िले के तकरीबन  18 संगठनों ने 48 घंटे के लिए अरुणाचल प्रदेश  बंद का ऐलान कर दिया है। 22 फ़रवरी  को कुछ लोगो ने देर  रात को ईटानगर के सचिवालय में घुसने की कोशिश की थी , जिसमे वह सफल नहीं हो सके। पुलिस ने इन्हे रोकने के लिए गोली चला दी। जिसमे एक घुस्पेठिये की मृत्यु हो गई। इसके बाद से ही यह पर्दशन हिंसक हो गया। और इस पर्दशन ने एक बड़ा विकराल रूप लेलिया। इसके बाद इन पर्दशन कारियो ने  ईटानगर में हो रहइंटरनेशनल फेस्टिवल के सेट को भी जला दिया गया ,और दूसरी जगहों को भी आग लगा दी गई। उप-मुख्यमंत्री को इसलिए  निशाने पर  लिया गया क्योंकि उन्होंने पिछले कुछ  दिनों कहा था , कि PRC आदिवसियों को नए साल का तोहफा दिया जायेगा। जिससे वहा के लोग भड़क उठे। और यह पूरा हंगामा हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here