विश्व का सबसे बड़ा कोयला भंडार भारत के पास है, फिर भी करता है आयात

Image Source: प्रभात खबर

भारत के पास कोयले का सबसे बड़ा भंडार है। भारत विश्व के उन देशों में शामिल है जहां कोयले के सबसे अधिक भंडार पाए जाते है। अब आपको यह बात हैरान कर रही होगी की अगर भारत के पास सबसे बड़े कोयले भंडार मौजूद है, तो भारत दूसरे देशों से कोयला आयात क्यों करता है। आइए हम आपको इस बारे में बताते हैं।

योजना बनाम सच्चाई

ऊर्जा मंत्री पियूष गोयल अप्रैल 2016 में कहां की हम अगले 2 से 3 वर्षों में थर्मल कोयले का आयात पूरी तरह से रोकना चाहते हैं। लेकिन इससे एकदम उलट हुआ, भारत का कोयला आयात पिछले साल से बढ़ गया है। दरअसल पिछले वर्ष से अब तक कोयला आयात 13.4 फ़ीसदी बढ़कर 20.72 मिलन टर्न हो गया है। कुल आयात में नॉन कुकिंग कॉल या थर्मल कोयले का हिस्सा 70 फ़ीसदी से अधिक है।

पीयूष गोयल ने कहा था, कि हम कोयले के आयात को मंज़ूरी नहीं दे सकते। क्योंकि भारत के पास 300 अरब टर्न का विशाल कोयला भंडार है। पूरे विश्व में भारत दुनिया का सबसे बड़ा कोयला भंडार मौजूद है। केवल समस्या इतनी है कि भारत के पास कोयला निकालने के लिए प्राप्त चीजें उपलब्ध नहीं है। जैसे प्लांट्स, स्टील प्लांट्स, सीमेंट और फर्टिलाइजर यूनिट आदि। इन्हीं कारणों से भारत कोयला निकलने में असमर्थ है। फरवरी 2018 में भारत सरकार ने एक प्राइवेट कंपनी को कोयला खनन का जिम्मा सौंपा है। कोयला क्षेत्र के 1973 में राष्ट्रीयकरण के बाद यह एक बड़ा रिफॉर्म माना जा रहा है।

Image Source: Hindustan

पूर्व कोयला सचिव अनिल स्वरूप का कहना है, कि कोयले को निकालने में बहुत सी बाधाएं सामने आती है। जैसे भूमि अधिग्रहण इसके अंतर्गत राज्य सरकार की बहुत सी शर्तें होती है, और पास के राज्यों को भी अपनी जमीन खोने का खतरा बना रहता है। इसके बाद कई प्रकार की मंजूरी लेनी पड़ती है। जैसे कि पर्यावरण और वन विभाग वालों से इसमें एक और मुख्य समस्या है कि कोयले को एक स्थान से दूसरे स्थान ले जाने के लिए पर्याप्त साधन मौजूद नहीं है। अगर है भी तो उनकी क्षमता इतनी नहीं है अगर इन समस्याओं का समाधान निकाल लिया जाए तो भारत को दूसरे देशों से कोयला आयात नहीं करना पड़ेगा। देश दुनिया की ताजा खबरों के लिए हमारे साथ बने रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here