मिशन शक्ति के सफल परीक्षण के बाद, अब भारत अंतरिक्ष में युद्धाभ्यास करेगा, तयारी में जूट वैज्ञानिक

Image Source: performindia.com

इसी साल के मार्च महीने में एंटी सेटेलाइट (ए सेट) का सफल परीक्षण करने के बाद, अब भारत ने हाल ही में ट्राई-सविस डिफेंस स्पेस एजेंसी की शुरुआत की है। सूत्रों की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक भारत योजना बना रहा है कि अगले कुछ महीनों में अंतरिक्ष में पहला युद्धाभ्यास किया जाएगा। इस से पहले भारत मे चीन को मिशन शक्ति के जरिए टक्कर दी थी, ओर साथ ही देश की सुरक्षा को पहले से ओर मज़बूत किया था। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस नई योजना का नाम इंडस्पेसएक्स (IndSpaceEx) रखा गया है। टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी रिपोर्ट के मुताबिक़ यह अपनी तरह का पहला अंतरिक्ष युद्धाभ्यास होगा। आपको बता दें कि यह एक प्रकार का टेबल-टॉप वॉर-गेम होगा। इसमें भारतीय सेना और विज्ञान सुमदाय के लोग शामिल होंगे। इस योजना के तहत भारत अपनी अंतरिक्ष संपत्ति पर संभावित खतरों का मुकाबला करने की आवश्यकता पर विचार कर रहा है।

Image Source: titrespresse.com

इस योजना के एक अधिकारी ने बताया की अंतरिक्ष का सैनिक रण होने के साथ ही प्रतिस्पर्धा प्रथा भी हो रहा है। इस योजना के बाद अंतरिक्ष में सामरिक चुनौतियों के साथ ही अपने काउंटर स्पेशल ताव का आकलन करने में लाभदायक साबित होगे। इस योजना का मुख्य उद्देश्य यह है कि मौजूदा अंतरिक्ष में काउंटर्स स्पेस क्षमता को बढ़ाना। इस योजना का पहला अभ्यास जुलाई महीने में किया जाएगा। यह पूरी योजना रक्षा मंत्रालय के एंटीग्रेड डिफेंस स्टाफ के तहत होगा। इस योजना से यह स्पष्ट हो जाएगा की भारत अपने राष्ट्रीय सुरक्षा हितों की रक्षा करने में सक्षम है या नहीं। एक धारणा यह भी है कि भारत को अंतरिक्ष में विश्वसनीय जवाबी क्षमता की आवश्यकता है। देश और दुनिया की ताजा खबरों के लिए हमारे साथ बने रह।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here