फिलीपींस के वैज्ञानिकों ने खोजी एक नई इंसानी प्रजाति, कौन सी है वह प्रजाति

Image Source: BBC

फिलीपींस के वैज्ञानिकों ने एक इंसान की नई प्रजाति को खोजै है। जिसका वैज्ञानिकों  ने नाम होमो लूज़ोनेसिस रखा है। यह प्रजाति आज के इंसानो से मेल कहती है।अभी कुछ भी साफ नहीं हुआ है, लेकिन अंदाजा लगाया जा रहा है की यह प्राचीन मानव के ये सम्बन्धी अफ़्रीका से जुड़े हो सकते हैं। जो कई कारणों से दक्षिण पूर्व एशिया में आ कर बस गए होंगे। इस प्रजाति की खोज के बाद से माना जा रहा है कि फ़िलिपीन्स और इस प्रांत में मानव प्रजाति का विकास बेहद मुश्किल भरा रहा होगा। इन प्रजातियो से पहले भी तीन से अधिक मानव प्रजातिया रही है। 50 हज़ार साल तक, इंडोनेशिया के करीब फ्लोर्स नाम का एक द्वीप मौजूद है, जहा होमो फ्लोरेसीन्सिस रहते थे। 2004 में होमो फ्लोरेसीन्सिस प्रजाति के बारे में  जानकारी लोगो के साथ साझा की गई थी। होमो लूज़ोनेसिस के अवशेष लूज़ोन के उत्तर में मौजूद कैलाओ गुफा में खोजे गए। यह गुफा तकरीबन 67 हज़ार से 50 हज़ार साल पुरानी है।

यह सभी अवशेष गुफा में पाए गए है,  यह सभी अवशेष तीन हिस्सों में पाए गए है, जिनमे  दांत, हाथ और पैरों की हड्डियां शामिल हैं। बताया गया की यह सभी अवशेष अलग अलग चार लोगो के है। इनमे से एक युवा है, बाकि तीन अधेड़ उम्र के है। इन प्रजातियो की कुछ विशेषता आज के मनुष्ये से मेल खाती है। जैसे की दो पैरो पर सीधे खड़े होकर चलना, और भी ऐसी विशेषताएँ शामिल है। बता दे की कुछ विशेषताएँ प्राचीन होमो जाति से भी मिलती हैं। अंदाजा लगाया जा रहा है की यह पेड़ पर भी चढ़ सकते थे।

Image Source: BBC

फिलीपींस के वैज्ञानिकों का मानना है की होमो लूज़ोनेसिस पहली प्रजाति रही होगी जो, सबसे पहले अफ्रीका के जंगलो से बहार आई होगी। लेकिन अब इस खोज पर यह सवाल उठाये जा रह है की लूज़ोन द्वीप चारों ओर से पानी से घिरा हुआ है। तो वह इस द्वीप पर कैसे पहुंचे। इंडोनिशिया का फ्लोर्स द्वीप को होमो लूज़ोनेसिस का घर माना जाता है, इन्हे छोटे कद के कारण  हॉबिट्स नाम से भी जाना जाता है। यह प्रजाति 50 हज़ार साल पहले समाप्त हो गई थी, जिसके बाद से आधुनिक मानव की शुरुआत हुई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here