Surya Grahan 2021 | जून 10 2021 का सूर्य ग्रहण | Surya Grahan 2021 LIVE Updates Today

Surya Grahan 2021: Surya Grahan 2021 LIVE Updates, Date Timings In India

Surya Grahan 2021
Daily India

Surya Grahan 2021– इस साल का पहला सूर्य ग्रहण आज है. 15 दिनों के अन्दर लगने वाला यह दूसरा ग्रहण है. ग्रहण दोपहर 01 बजकर 42 मिनट से आरम्भ होकर शाम के 06 बजकर 41 मिनट तक चलेगा. भारत में इस सूर्य ग्रहण को देखा नहीं जा सकेगा. इस साल कुल मिलाकर 4 ग्रहण लग रहे हैं. दो सूर्य ग्रहण और 2 चंद्र ग्रहण. पहला चंद्र ग्रहण 26 मई को लग चुका है जबकि दूसरा चंद्र ग्रहण 19 नवंबर को लगेगा. वहीं 10 जून के बाद दूसरा सूर्य ग्रहण 4 दिसंबर को लगेगा. यह ग्रहण अमेरिका, यूरोप,उत्तरी कनाडा, एशिया,रूस और ग्रीनलैंड में देखा जा सकेगा.

NASA के मैप के मुताबिक, ये सूर्य ग्रहण भारत में सिर्फ लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश में दिखाई देगा. जब चंद्रमा पृथ्वी की परिक्रमा करते हुए सूर्य और पृथ्वी के बीच आ जाता है तो सूर्य की रौशनी पृथ्वी तक नहीं पहुंच पाती है इस स्थिति को ही सूर्य ग्रहण कहते है. सूर्य ग्रहण हमेशा अमावस्य तिथि के दिन ही लगता है. वही चन्द्र ग्रहण हमेशा पूर्णिमा तिथि पर ही लगता है. लेकिन हर अमावस्या और पूर्णिमा पर ग्रहण नहीं लगते, आज ज्येष्ठ अमावस्या तिथि पर लगने वाला साल का पहला सूर्यग्रहण भारत के कुछ हिस्सों में दिखाई दे सकता है.

Surya Grahan 2021
The Indian Express

यह भारत के पूर्वोत्तर में अरुणाचल प्रदेश और लद्दाख के उत्तरी भाग में शाम 6 बजे के बाद आंशिक रूप से दिखाई दे सकता है. हालांकि इसे देख पाना कठिन होगा. हमारे शास्त्रों में ग्रहण की घटना को बहुत ही अशुभ माना गया है. ग्रहण लगने से पहले ही कई तरह के कार्य थम जाते हैं. इसे सूतक काल कहा जाता है, सूर्य ग्रहण के लगने से 12 घंटे पहले और चंद्र ग्रहण के लगने के 09 घंटे पहले सूतक लग जाता है. ग्रहण से पहले और ग्रहण के दौरान कई तरह की सावधानियां बरतनी चाहिए. ज्योतिष के अनुसार जिस व्यक्ति की कुंडली में सूर्य ग्रहण लगा हो उसकी कुंडली में पितृदोष भी लगता है. किसी जातक की कुंडली में शुक्र, बुध या राहु एकसाथ, दूसरे, पांचवें, नौवें अथवा बारहवें भाव में स्थित हो तो पितृ दोष लगता है.

Surya Grahan 2021
The Indian Express

यदि ग्रहण दोष यो पितृ दोष हो तो उसके अशुभ प्रभावो से बचने के लिए छह नारियल लेकर सिर के ऊपर से वारकर बहते जल में प्रवाहित करना चाहिए. यदि कुंडली में सूर्य ग्रहण योग या पितृ दोष हो तो किसी से भी कोई वस्तु बिना पैसों के नहीं लेनी चाहिए और नेत्रहीनों की सहायता करनी चाहिए. ग्रहण के दौरान और ग्रहण के खत्म होने तक भगवान की मूर्ति को नहीं छूना चाहिए. ग्रहण में घर के मंदिरों के कपाट बंद कर देना चाहिए.

ताकि भगवान पर ग्रहण का असर ना हो सके. ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान ना तो ग्रहण देखना चाहिए और ना ही घर के बाहर निकलना चाहिए. ग्रहण में स्त्री-पुरुष को शारीरिक संबंध नहीं बनाना चाहिए. ग्रहण के दौरान शारीरिक संबंध बनाने से गर्भधारण में संतान पर बुरा असर पड़ता है. सूतक लगने पर और ग्रहण के दौरान सबसे ज्यादा नकारात्मक शक्तियां हावी रहती हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here