अंतरिक्ष में सबसे अधिक कचरा किस देश का है, और इसका जिम्मेदार कौन है

Image Source; extremetech.com

आपको इस बात से आग्रे कर दे की आज सभी बड़े देश एक दूसरे से आगे जाने की होड़ में अंतरिक्ष को कचरे से भर रह है, अंतरिक्ष में सैटेलाइट, रॉकेट और पे-लोड के हजारों टुकड़े हमारी पृथ्वी के नज़दीक तैर रह है। इन सभी टुकडो की रफ़्तार 27 हज़ार किलोमीटर प्रति घंटा है, जो बेहद अधिक तेज़ है। आइये जानते है की जिस देश का सबसे अधिक कचरा अंतरिक्ष में है।

एंटी सैटेलाइट क्षमता वाले देश

स्पेस सुपर पॉवर की शुरआत सबसे पहले अमेरिका और रूस ने की थी, लेकिन सबसे पहले अमेरिका ने 1959 में अपना पहला एंटी सैटेलाइट मिशन किया था, जिसमे वह सफल हुए थे। अमेरिका के ऑर्बिट में लगभग 1906 सैटेलाइट मौजूद है।

1963 में रूस ने अपना पहला एंटी सैटेलाइट मिशन किया। इस समय रूस के ऑर्बिट में तकरीबन 1518 सैटेलाइट मौजूद है। रूस दूसरा देश है जिसके पास सबसे ज्यादा सैटेलाइट है।

Image Source; Youtube

चीन ने अपना पहला एंटी सैटेलाइट मिशन 2007 में किया था, चीन के अंतरिक्ष  में 400 से अधिक सैटेलाइट पृथ्वी के नज़दीक तैर रह है। चीन तिरसा देश था जिसने यह उपलब्धि हासिल की थी।

हाल में ही भारत ने भी यह उपलब्धि हासिल की है, भारत एंटी सैटेलाइट मिशन सफलता पूर्वक पूरा किया, भारत भी इस सूचि में शामिल हो गया है। अंतरिक्ष में भारत के कुल 96 सैटेलाइट है।

अंतरिक्ष में सबसे अधिक किसका कचरा ?

अमेरिका ने अब तक कुल 6401 सैटेलाइट अंतरिक्ष  भेजे है जिसमे से 4734 सैटेलाइट किसी काम के नहीं है, जो  अब कचरा बन चुके है।  अमेरिका का अंतरिक्ष में सबसे ज्यादा कचरा है। यह कचरे की मात्रा बहुत अधिक है।  आने  वाले समय में यह बहुत बड़ी समस्या बन सकती है

इस संखला में रूस दूसरे स्थान पर है जिसने अभी तक कुल 6590 सैटेलाइट अंतरिक्ष में भेजे है जिसमे से 5071 सैटेलाइट का कोई इस्तेमाल नहीं होता। रूस और अमेरिका के बिच हमेशा होड़ रही है। और यह शिलसला कहि रुकने का नाम नहीं ले रहा।

Image Source; extremetech.com

इस संखला में चीन तीसरे स्थान पर है जिसने अंतरिक्ष में सबसे अधिक कचरा फैलाया है, कुल सैटेलाइट की संख्या 3987 और 3665 कचरा बन गए है। जिसका अब कोई इस्तेमाल नहीं होता।

फ़्रांस ने कुल 555  सैटेलाइट अंतरिक्ष में भेजे है जिसमे से 49 कचरे के रूप में अंतरिक्ष में है।

जापान इस संखला में पांचवे स्थान पर है, जापान ने कुल 281 सैटेलाइट अंतरिक्ष में भेजे जिसमे से 108 कचरे के रूप है।

भारत ने अभी तक 206 सैटेलाइट अंतरिक्ष में भेजे है जिसमे से 117 कचरे के रूप में है।

अंतरिक्ष में कितना कचरा है ?

अंतरिक्ष में तकरीबन 17 करोड़ कचरे के टुकड़े मौजूद है, जिसमे से केवल 22 हज़ार  टुकड़े को ट्रैक किया जा सकता है, बाकि को करना असंभव है। जो पृथ्वी की सुरक्षा के लिए घातक है। इन सभी टुकड़ो की रफ़्तार तकरीबन 27000 किलोमीटर प्रति घंटा है। इस रफ़्तार से यह धरती से टकराते है तो आप समज सकते है की कितना नुकसान होगा हमें। जनवरी 2007 में जब कुछ ऐसा ही कचरा चीन की और भड़ने लगा जिसके चलते चीन को एंटी किलोमीटर का इस्तेमाल करना पड़ा। इसके बाद 2009 फरवरी में इरिडियम टेलिकॉम सैटेलाइट और रुसी मिलिट्री सैटेलाइट में दोनों आपस में टकरा गए, आने वाले समय में ऐसी दुर्घटना और देखने को मिल सकती है यह संभव है। आज अंतरिक्ष में बहुत अधिक कचरा इकठा हो गया है।

Image Source; Naukri Nama

1500 स्क्वायर किलोमीटर में फैला दक्षिण प्रशांत महासागर में अब तक कुल 260 सैटेलाइट पानी में डुबाए गए है। डिजाइन फॉर डेमाइस की बात करें तो इसके लिए उपग्रह ऐसे मैटेरियल से बनाए जाते हैं, जो वापसी करने पर खुद-ब-खुद जमकर नष्ट हो जाते हैं। अभी तक 260 उपग्रहों को गिराया जा चुका है। आपको बता दे की नष्ट करने के अलावा उपग्रहों को सही करके भी इस्तेमाल में लाया जाता है।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here